Word Processing

कंप्यूटर पर गणनाओं के अतिरिक्त सबसे पहले जो कार्य संपन्न हुआ था वह वर्ड प्रोसेसिंग ही था। कैलकुलेशन करने के पश्चात लोगों ने इसका प्रयोग चिट्ठी लिखने जैसे कार्यों के लिए प्रारंभ किया और इससे संबंधित एप्लीकेशन सॉफ्टवेयरों का निर्माण किया। पीसी के प्रारंभ में वर्ड प्रोसेसिंग के वर्ड स्टार और वर्ड परफेक्ट जैसे सॉफ्टवेयर इस्तेमाल होते थे। लेकिन वर्तमान समय में इस कार्य के लिए विंडोज़ पर आधारित सॉफ्टवेयरों का प्रयोग किया जाता है और इनमें सबसे ज्यादा माइक्रोसॉफ्ट आॅफिस के भाग माइक्रोसॉफ्ट वर्ड को इस्तेमाल करते हैं। वर्ड प्रोसेसिंग को जब हम परिभाषित करते हैं तो सीधा सा अर्थ यह है कि कंप्यूटर के द्वारा टाइपिंग का कार्य करना और उसे विधिवत लेआउट में सजाना । वर्तमान समय में वर्ड प्रोसेसिंग इतनी आगे चली गई है कि अब हम इसे मंुह से बोलकर भी संपन्न कर सकते हैं। वर्ड प्रोसेसिंग के अंतर्गत जब हम टेकस्ट टाइप करते हैं तो उसे अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी तरफ एलाइन कर सकते हैं। एलाइन करने का अर्थ होता है कि सभी लाइनों को एक तरफ करके पंक्तिबद्ध करना।

वर्ड प्रोसेसिंग की अन्य खूबियां

आॅटो करेक्शन

जब हम कंप्यूटर में माइक्रोसॉफ्ट वर्ड के द्वारा वर्ड प्रोसेसिंग का काम करते हैं तो हमें इसमें एक विशेष सुविधा मिलती है। जिसकी वजह से कंप्यूटर हमारे द्वारा टाइपिंग में की गई व्याकरण संबंधी गलतियों और कैप्टलाइजेशन संबंधी गलतियों को पहचान करके खुद ही ठीक करता है। इसके अलावा यदि किसी शब्द की स्पेलिंग गलत है तो यह हमारे सामने कुछ ऐसे शब्द लाता है जो उस गलत शब्द से मिलते-जुलते हैं जबकि यह उनके सही रूप होते हैं। आप इनमें से अपनी पसंद का सही शब्द चुनकर उसे दस्तावेज़ में जोड़ सकते हैं। आॅटो करेक्ट नामक यह सुविधा कंप्यूटर के वर्ड प्रोसेसिंग सॉफ्टवेयर में जुड़ी मुख्य डिक्शनरी का प्रयोग करती है।

आप अब कंप्यूटर में अलग-अलग भाषाओं में भी वर्ड प्रोसेसिंग की आॅटो करेक्शन सुविधा इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन आपको ऐसा करने के लिए उससे संबंधित डिक्शनरी को कंप्यूटर में इंस्टाॅल करना होगा। माइक्रोसॉफ्ट ने इस कार्य के लिए एक प्रूपिंफग टूल किट बनाई है जिससे आप इसके वेबसाइट से अपने कंप्यूटर में डाउनलोड कर सकते हैं।

आॅटो फाॅर्मेट

फाॅर्मेटिंग के लिए अब आपको कोई विशेष मेहनत करने की जरूरत नहीं है माइक्रोसॉफ्ट वर्ड स्वतः टेक्स्ट फाॅर्मेट करने की शक्ति से संपन्न है। आप इसमें दी हुई सूची में फाॅर्मेटिंग को सेट करके उसे दस्तावेज पर बहुत ही सरलतापूर्वक इस्तेमाल कर सकते हैं।

आॅटो कम्पीलट

वर्ड प्रोसेसिंग के तहत अब आपको पूरा शब्द टाइप करने की जरूरत नहीं है यदि आपने कोई शब्द टाइप करना प्रारंभ किया है तो कंप्यूटर स्वयं ही पूरा शब्द लेकर आपके सामने आता है जिस पर क्लिक करके आप अपने अधूरे शब्द को पूरा कर सकते हैं। ऐसा करने से स्पेलिंग की गलती की संभावना बहुत कम हो जाती है।

आॅटो समराइजे़शन

वर्ड प्रोसेसिंग के साथ अब यह एक नई सुविधा जुड़ी है। जो आपके दस्तावेज़ का सारांश विश्लेषण के साथ आपके सामने प्रस्तुत कर सकती है। आप इस सुविधा का प्रयोग करके अपने दस्तावेज के कुछ खास बिंदुओं को हाईलाइट कर सकते हैं और उन्हें खास स्तर पर भी रख सकते हैं। इससे आपको यह पता चल जाता है कि आपके द्वारा बनाए हुए दस्तावेज में कौन-कौन से तत्व किस मात्रा में उपलब्ध हैं।

आॅटोमेटिक स्टाइल

वर्ड के नए संस्करण में फाॅर्मेटिंग के लिए आॅटोमेटिक स्टाइलों को जोड़ा गया है। जिसकी मदद से आप नई फाॅर्मेटिंग के लिए नया स्टाइल बहुत ही आसानी से बना सकते हैं। इसके अतिरिक्त आप किए गए परिवर्तन को दर्शाने के लिए स्टाइल को फिर से परिभाषित कर सकते हैं, और फाॅर्मेटिंग टूलबार में दी हुई सूची से आप सभी स्टाइलों को आप जरूरत पड़ने पर देख सकते हैं।

वर्ड में कार्य करना

माइक्रोसॉफ्ट वर्ड में काय के लिए हमें सबसे पहले कंप्यूटर को आॅन करना होगा। कंप्यूटर को आॅन करते ही हमारे सामने विंडोज़ का डेस्कटाॅप आ जाएगा। यदि इस डेस्कटाॅप में शार्टकट के रूप में माइक्रोसॉफ्ट वर्ड का कोई आइकाॅन है तो आप इस पर क्लिक करके इसे क्रियान्वित कर सकते हैं और यदि आइकाॅन नहीं है तो आप स्टार्ट बटन पर क्लिक करें और फिर प्रोग्राम मीनू पर जाकर माइक्रोसॉफ्ट वर्ड को क्रियान्वित कर दें। ऐसा करने से वर्ड कंप्यूटर में लोड जो जाएगा। यहां से आप उसमें कार्य करना प्रारंभ कर सकते हैं।

यहां पर आप यदि दस्तावेज बनाने का कार्य प्रारंभ करना चाहते हैं तो फाइल मीनू में दिए हुए न्यू कमांड पर क्लिक करें। न्यू कमांड पर क्लिक करते ही यह कमांड सक्रिय होगा और स्क्रीन पर इसका एक आॅप्शन डायलिंग बाॅक्स जिसमें कि कई विकल्प और टैब आॅप्शन होते हैं आपके सामने आएगा। इसमें आप देखेंगे कि डिफाॅल्ट सेटिंग के रूप में सबसे पहले जनरल नाम टैब आॅप्शन आपके सामने है और इस टैब आॅप्शन में दो आइकाॅन हैं। खाली फाइल खोलने के लिए आप इसमें दिए हुए ब्लैंक डाॅक्यूमेंट आइकाॅन पर दो बार क्लिक कर दें। क्लिक करते ही स्क्रीन पर खाली फाइल खुलकर आ जाएगी। जहां से आप टाइपिंग का कार्य प्रारंभ कर सकते हैं-

विजार्ड से डाॅक्यूमेंट बनाना

वर्ड के नए संस्करण में डाॅक्यूमेंट के निर्माण के लिए कई विजार्डों को जोड़ा गया है। जिनका प्रयोग करके आप बहुत ही आसानी से तरह-तरह के दस्तावेज बना सकते हैं। इस कार्य के लिए आपको फाइल मीनू में दिए हुए न्यू कमांड पर क्लिक करना होगा। जैसे ही आप क्लिक करेंगे आपके सामने न्यू कमांड का एक आॅप्शन मीनू आ जाएगा। इस मीनू में आप उस टैब पर क्लिक करें, जिस तरह के दस्तावेज आप बनाना चाहते हैं। ऐसा करते ही आपके सामने विजार्डों की सूची दिए हुए चित्र की भांति आ जाएगी-

आप जिस प्रकार का दस्तावेज बनाना चाहते हैं उससे संबंधित विजार्ड पर क्लिक करें। विजार्ड का प्रिव्यू आपको प्रिव्यू विंडो में दिखाई देगा। इसके साथ ही साथ स्क्रीन पर आपके सामने लगातर निर्देश आएंगे। इन निर्देशों का पालन करते हुए आप दस्तावेज का निर्माण कर सकते हैं।

टेम्प्लेट्स से दस्तावेज बनाना

विजार्ड के अतिरिक्त आप टेम्प्लेट का भी प्रयोग करके आप दस्तावेज का निर्माण कर सकते हैं। इस कार्य के लिए भी आपको फाइल मीनू में दिए हुए न्यू कमांड पर क्लिक करना पड़ेगा और फिर आप जिस तरह का डाॅक्यूमेंट बनाना चाहते हैं उससे संबंधित टैब पर क्लिक करें और टैब खुलने पर जब आपके सामने टेम्पलेट की सूची जा जाए तो आप संबंधित आइकाॅन पर दो बार क्लिक कर दें।

डाॅक्यूमेंट को टेम्पलेट बनाना

वर्ड प्रोसेसिंग के तहत आप वर्ड पर आधारित टेम्प्लेट बना सकते हैं तो इसके साथ ही साथ अपने द्वारा बनाए हुए डाॅक्यूमेंट पर आधारित नए टेम्प्लेट भी बना सकते हैं। इस कार्य के लिए आप जिस डाॅक्यूमेंट को प्रयोग कर रहे हैं उसे टेम्प्लेट का रूप देने हेतु फाइल मीनू में ओपन कमांड पर क्लिक करें। और जब दस्तावेज आपके सामने आ जाए तो उसके आइकाॅन पर क्लिक करके खोल लें। इसके पश्चात आप न्यू कमांड पर क्लिक करें और आप जैसा टेम्पलेट बनाना चाहते हैं उससे मिलते-जुलते टेम्प्लेट को क्लिक कर दें। क्रिएट न्यू के अंतर्गत टेम्प्लेट्स नामक बटन पर क्लिक करें। फिर ओके बटन पर क्लिक कर दें। जब यह कार्य हो जाए तो फाइल मीनू में सेव ऐज़ कमांड पर क्लिक करें। ऐसा करते ही आपके सामने निम्न आॅप्शन आएगी-

इस विंडो में आप टाइम्स बाॅक्स में जाकर सेव करने की क्रिया के लिए डाक्यूमेंट टेम्प्लेट्स विकल्प चुनें और फिर सेव बटन पर क्लिक कर दें।

डाॅक्यूमेंट की प्रति खोलना

यदि हमने वर्ड प्रोसेसिंग में एक दस्तावेज का निर्माण किया है और हम उसे उसके वास्तविक रूप में न खोलकर उसकी काॅपी खोलना चाहते हैं तो ऐसा भी कर सकते हैं। इस कार्य के लिए आपको फाइल मीनू में ही दिए हुए ओपन कमांड पर क्लिक करना पड़ेगा। ऐसा करते ही हमारे सामने ओपन कमांड एक आॅप्शन मीनू आएगा-

यहां पर आप जिस दस्तावेज को खोलना चाहते हैं उस पर क्लिक करें और फिर उसे एक प्रति के रूप में खोलने के लिए ओपन बटन के पास बने एरो पर क्लिक कर दें। यहां पर आपको ओपन ऐज़ काॅपी विकल्प मिलेगा। जिस पर क्लिक करते ही दस्तावेज़ की मूल प्रति अपनी जगह रहेगी, आपके सामने उसकी एक डुप्लीकेट काॅपी खुलकर आ जाएगी। जिसमें आप मनचाहा परिवर्तन कर सकते हैं।

नेटवर्क पर दस्तावेज खोलना

यदि आप नेटवर्क से जुड़े किसी दूसरे कंप्यूटर में स्टोर दस्तावेज या फाइलों को खोलना चाहते हैं तो आप उसके लिए फाइल मीनू के ओपन कमांड पर क्लिक करके नेटवर्क फोल्डरों को खोलें और उसमें दिए हुए डाॅक्यूमेंट पर दो बार क्लिक करें। ऐसा करने से यह डाॅक्यूमेंट खुलकर आपके सामने आ जाएगा। यहाँ से उस फाइल को स्लेक्ट करें जिसे खोलना है और फिर ओपन बटन पर क्लिक करें।

पुराने संस्करणों की फाइलों को खोलना

फाइल मीनू में आप इस कार्य के लिए वर्जन कमांड पर क्लिक करें और जब इसका आॅप्शन मीनू आपके सामने आ जाए तो उसमें जाकर उस संस्करण को स्लेक्ट करें जिसकी फाइल आप खोलना चाहते हैं और जब यह वर्जन सेट हो जाए फिर आप ओपन कमांड पर क्लिक करके इस संस्करण से संबंधित दस्तावेजों को खोल सकते हैं।

मेमो बनाना

वर्ड प्रोसेसिंग करते हुए हमें कई बार मेमो बनानी पड़ सकती है। मेमो बनाने के लिए आपको फाइल मीनू के न्यू कमांड पर क्लिक करना पडे़गा। ऐसा करते ही आपके सामने न्यू कमांड का आॅप्शन मीनू आ जाएगा। इस मीनू में आप मेमो टैब को क्लिक करें। क्लिक करते ही मेमो टैब के अंतर्गत आने वाले तमाम आइकाॅन स्क्रीन पर दिखाई देने लगेंगे-

यहां पर आपके केवल विजार्ड में लिखे हुए निर्देशों का पालन करना है। निर्देशों का पालन करके आप मेमो विजार्ड का निर्माण कर सकेंगे।

पैफक्स बनाना और भेजना

मेमो की तरह से ही आप वर्ड प्रोसेसिंग करते हुए माइक्रोसॉफ्ट वर्ड में फैक्स विजार्ड का प्रयोग करके फैक्स बना सकते हैं और उसे उस स्थान पर भेज सकते हैं जहां उसकी जरूरत है। इस कार्य को करने के लिए आपको फाइल मीनू के न्यू कमांड का प्रयोग करना होगा। जैसे ही फाइल मीनू का न्यू कमांड क्रियान्वित होगा आपके सामने इसका एक आॅप्शन डायलाॅग बाॅक्स आएगा। इसमें आपको लेटर और फैक्स नामक टैब दिखाई देगा। यहां पर आप लेटर और फैक्स नामक भाग पर क्लिक कर दें। क्लिक करते ही इससे

संबंधित आइकाॅन स्क्रीन पर दिखाई देंगे। यहां पर आप फैक्स विजार्ड पर क्लिक करें। क्लिक करते ही फैक्स विजार्ड सक्रिय होगा और स्क्रीन पर इस प्रकार आएगा-

यहां पर आप नेक्स्ट बटन पर क्लिक करते जाएं और स्क्रीन पर दिखाई दे रहे निर्देशों का पालन करें। ऐसा करते हुए आप फैक्स का निर्माण कर सकेंगे और उसे गंतव्य स्थान पर भेज भी सकेंगे।

कलेंडर बनाना

फैक्स की तरह ही वर्ड में कलेंडर का निर्माण किया जाता है। इस कार्य के लिए फाइल मीनू के न्यू कमांड पर क्लिक करें और जब आपके सामने इसका आॅप्शन मीनू आ जाए तो उसमें दिए हुए अदर डाॅक्यूमेंट्स नामक टैब आॅप्शन्स को खोलें। इसमें आप देखेंगे कि एक कलेंडर विजार्ड के नाम से आइकाॅन है। इस आइकाॅन को माउस से क्लिक करें। जब यह स्लेक्ट होगा तो प्रिव्यू विंडो में आपको इसका प्रिव्यू दिखाई देगा। जहां से आप इस बात को सुनिश्चित कर सकते हैं कि यह कलेंडर विजार्ड ही है। इसके बाद आप इस विजार्ड पर दो बार क्लिक करें। आपके सामने इस विजार्ड का पहला स्टेप आएगा।

इस स्टेप में आपको केवल नेक्स्ट बटन पर क्लिक करना है। नेक्स्ट बटन पर क्लिक करने से आपके सामने इसका दूसरा चरण आएगा। यदि आप इसमें लिखे हुए निर्देशों का पालन करते जाएंगे तो बहुत ही शीघ्रता के साथ कलेंडर का निर्माण कर सकेंगे।

एजेंडा बनाना

कलेंडर की तरह से ही आप एजेंडा भी बना सकते हैं। क्योंकि एजेंडा बनाने के लिए जिस विजार्ड का प्रयोग होता है वह भी फाइल मीनू के न्यू कमांड के अंतर्गत आने वाले आॅप्शन मीनू में दिए हुए अदर डाॅक्यूमेंट टैब के अंगर्तत होता है। इसकार्य के लिए आप इसमें एजेंडा विजार्ड क्लिक करें। एजेंडा विजार्ड का पहला स्टेप दिखाई देगा। इस स्टेप में आपको नेक्स्ट बटन पर क्लिक करना है और ऐसा करते हुए आप फराने दस्तावेजों की तरह से किसी भी एजेंडा का निर्माण कर सकेंगे।

डाॅक्यूमेंट सेव करना

वर्ड मे सरलता के साथ मनचाहे फाॅर्मेट में फाइल सेव कर सकते हैं। इसके लिए आपको स्टैंडर्ड टूल बार में दिए सेव आइकाॅन पर क्लिक करना होगा या फिर फाइल मीनू में दिए हुए सेव कमांड पर। यदि आप की-बोर्ड के साथ कंट्रोल की के साथ एस की को दबाएंगे तो भी आपके सामने सेव करने के लिए एक आॅप्शन विंडो आएगी। इस आॅप्शन विंडो में जाकर आप सबसे पहले सेव इन नामक विकल्प का प्रयोग करके इस फोल्डर को चुनें जहां आप इस दस्तावेज को सेव करना चाहते हैं। इसके बाद आप फाइल नेम नामक विकल्प में आ जाएं और वहां पर फाइल का मनचाहा नाम टाइप करें। यदि फाइल को वर्ड के अलावा किसी दूसरे सॉफ्टवेयर या दूसरे फाॅर्मेट में सेव करना है तो आप सेव ऐज़ टाइप विकल्प विंडो से इस फाॅर्मेट का चुनाव कर सकते हैं। इस विंडो में जो विकल्प दिए हुए हैं यदि आपके द्वारा किया जाने वाला फाॅर्मेट इन विकल्पों में है। तो आप उस पर माउस से क्लिक करके स्लेक्ट करें और फिर सेव बटन पर क्लिक कर दें। ऐसा करने से आपके द्वारा चुने हुए फोल्डर में आपके द्वारा रखे गए नाम से और आपके द्वारा निर्धारित किए गए फाॅर्मेट के अनुसार फाइल या दस्तावेज सेव जो जाएगा। सेव करने के पश्चात यदि आप दस्तावेज को बंद करना चाहते हैं तो फाइल मीनू में दिए हुए क्लोज़ कमांड पर क्लिक करके वर्ड को बिना बंद किए हुए इस फाइल को बंद कर सकते हैं।

डाॅक्यूमेंट में डेट और टाइम जोड़ना

किसी डाॅक्यूमेंट मे तारीख लिखने के लिए आपको वर्ड के इंसर्ट मीनू को खोलना होगा और उसमें दिए हुए डेट एंड टाइम का प्रयोग करना होगा। इस कमांड पर क्लिक करते ही आपके सामने डेड एंड टाइम कमांड का विकल्प मीनू खुलेगा और इसमें आपको एवलेबल फाॅर्मेट नामक विंडो दिखाई देगीेे। एवलेबल नामक फार्मेट विंडो को आप ध्यान से देखिए इसमें आपको समय और तारीखों के अनेक फाॅर्मेट आपको दिखाई देंगे। आप अपने देश में प्रचलित फार्मेट के अनुसार जिसे भी प्रयोग करना चाहें उसे क्लिक कर दें। क्लिक करते ही वह स्लेक्ट हो जाएगा और फिर आप ओके बटन पर क्लिक कर दें। यहां पर आपको एक और सुविधा मिलेगी जिसके द्वारा आप इस समय और तारीख को आॅटोमेटिक तरीके से अपडेट करने का विलल्प भी प्रयोग कर सकेंगे।

डेट और टाइम के मुख्य आॅप्शन मीनू में अपडेट आॅटोमेटिकली नामक एक चैक होता है। जिसके ऊपर आप माउस से क्लिक करेंगे तो यहां पर एक क्राॅस का निशान बन जाएगा। इसका अर्थ यह है कि विकल्प सक्रिय कर लिया है और अब आपके दस्तावेज में प्रयोग की गई समय और तारीख अपडेट होती रहेगी। इसके अतिरिक्त यदि आप समय और तारीख के लिए किसी दूसरी भाषा का प्रयोग करना चाहते हैं तो इसमें दिए हुए लैंग्वेज़ नामक आॅप्शन का प्रयोग करके मनचाही भाषा का चुनाव कर सकते हैं। यहां पर दिए हुए लैंग्वेज़ बाॅक्स में जो भाषाएं शामिल होती हैं वह वर्ड के अंतर्गत एडिट भी हो सकती हैं और इसलिए आप उनका यहां पर इस्तेमाल कर सकते हैं।

करेंट तारीख को खुद ही जोड़ना
यदि आप यह चाहते हैं कि आपके दस्तावेज़ में आज जो तारीख है वर्ड उसे स्वयं जोड़ दे तो अब आप इसकी सेटिंग भी कर सकते हैं। यह कार्य करने के लिए आप सबसे पहले आॅटो कम्प्लीट नामक आॅप्शन को सक्रिय करें और तारीख के पहले चार अक्षर टाइप कर दें। ऐसा करते ही माइक्रोसॉफ्ट वर्ड माॅनीटर पर एक आपको टिप दर्शाएगा। जिसमें आपको वर्तमान समय में चल रहा महीना दिखाई देगा। यहां पर आप उसे स्लेक्ट कर सकते हैं और इसके बाद आप जैसे ही स्पेस टाइप करेंगे आपके सामने करेंट डेट भी आ जाएगी। जिस पर क्लिक करके एंटर की को दबाते ही इसे आप दस्तावेज में जोड़ सकते हैं।

क्लिक और टाइप सुविधा प्रयोग करना

क्लिक करके दस्तावेज में इस तरह की सुविधाओं को जोड़ना वर्ड प्रोसेसिंग में क्लिक एंड टाइप नामक एक शब्द के द्वारा जाना जाता है।

डाॅक्यूमेंट की खाली जगह में जब आप टेक्स्ट या ग्राफिक, टेबल या फिर किसी दूसरी आइटम को तेजी से शामिल करना चाहें तो इसके लिए आप वर्ड प्रोसेसिंग में आने वाली क्लिक और टाइप सुविधा का इस्तेमाल कर सकते हैं। इस कार्य के संदर्भ में आप खाली जगह पर दो बार क्लिक करें। ऐसा करने से क्लिक और टाइप स्वयं ही आइटम को खाली जगह में भरने के लिए एक जरूरी पोजी़शन आपके सामने लेकर आएगा।

क्लिक और टाइप सुविधा आपको मल्टीपल काॅलम और बुलैट और नंबरों वाली लिस्ट, टेक्स्ट से घिरे हुए फोटो इत्यादि के संदर्भ में उपलब्ध होती है। जबकि सामान्य व्यू, आउट व्यू और प्रिंट व्यू में यह सुविधा उपलब्ध नहीं होती है। लेकिन इसके पहले आपको यह बात भी सुनिश्चित करनी होगी क्या आपने कंप्यूटर में इस आॅप्शन को सक्रिय किया है या नहीं। इसे सुनिश्चित करने के लिए आप टूल्स मीनू में जाएं और उसमें दिए हुए आॅप्शन कमांड पर क्लिक कर दें। इसके बाद आप इसके एडिट टैब को खोलें। क्लिक करते ही यह खुल जाएगा और इसके अंतर्गत आने वाले विकल्प आप देख सकते हैंै। इन विकल्पों में आपको क्लिक एंड टाइप नामक भाग में एनैबल क्लिक एंड टाइप नामक एक चैक बाॅक्स मिलेगा। जिस पर माउस से क्लिक करते ही वहां पर एक सही का निशान बन जाएगा। इस निशान का अर्थ यह है कि यह सुविधा सक्रिया हो गई है इसके पश्चात आप ओके बटन पर क्लिक कर दें। अब आप प्रिंट लेआउट व्यू या वेब लेआउट व्यू को क्लिक करें। फिर दस्तावेज में उस जगह जहां पर टेक्स्ट ग्राफिक टेबल जोड़ना चाहते हैं। माउस प्वाइंटर को ले जाएं तथा क्लिक कर दें। प्वाइंटर का आकार आपको यह बताएगा कि आइटम किस तरह से फाॅर्मेट होगा। उदाहरण के लिए यदि आप पेज के बीचों-बीच में प्वाइंट करते हैं तो प्वाइंट का आकार बताता है कि आइटम बीच में होगा। दो बार क्लिक करें फिर हमेशा की तरह से टेक्स्ट टाइप करना शुरू करें। इससे आप किसी भी आइटम को दस्तावेज में शामिल कर सकते हैं। यदि आपने गलती से दो बार क्लिक कर दिया है और आपको इस सुविधा का प्रयोग नहीं करना है तो दस्तावेज में किसी दूसरे स्थान पर जाकर दो बार क्लिक कर दें।

किसी दूसरे पेज या आइटम पर जाना

यदि आपके द्वारा बनाई हुई फाइल में सैकड़ों की संख्या में पेज हैं तो आप उनमें से किसी भी पेज पर बहुत ही शीघ्रता के साथ पहंुच सकते हैं। इस संदर्भ में आपको एडिट मीनू में दिए हुए गो-टू कमांड का इस्तेमाल करना होगा। जब आप गो-टू कमांड पर माउस से क्लिक करेंगे तो इसका आॅप्शन मीनू स्क्रीन पर दिखाई देगा।

यहां पर आप दिए हुए विकल्पों को सेट करके मनचाहे पेज और पेज में मनचाहे स्थान पर पहंुच सकते हैं।

Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *